बेचैनी शायरी | Bechaini Shayari | Bechain Shayari

Bechaini Shayari

Best Bechaini Shayari – इस पोस्ट में बेचैनी पर बेहतरीन शायरी दिया गया हैं. इस पोस्ट की शायरी को जरूर पढ़े. जब दिल में बेचैनी होती हैं तो कुछ अच्छा नहीं लगता हैं. प्यार में अक्सर लोग कुछ ज्यादा ही बेचैन हो जाते हैं.

बेचैन शायरी | Bechain Shayari

इतनी बेचैनी से तुमको किसकी तलाश हैं,
वो कौन है जो तेरी आँखों की प्यास हैं.


बेचैनियाँ बढ़ी तो लगा कि जिन्दगी कुछ खफ़ा हैं,
फिर सोचा, चलिए छोड़िये कौन सी पहली दफा हैं.


भोले बन कर हाल न पूछ बहते हैं अश्क तो बहने दो.
जिस से बढ़े बेचैनी दिल की ऐसी तसल्ली रहने दो,
आरज़ू लखनवी


मुझे इतना याद आकर बेचैन न करों तुम,
एक यही सितम काफ़ी है कि साथ नही हो तुम.


बेचैन उमंगो को बहला के चले जाना,
हम तुमको न रोकेंगे बस आ के चले जाना.


साँसों में अजीब सी बेचैनी,
दिल में तेरा ही ख्याल होता हैं,
गुजर जाती है रात ख़्वाबों में,
फिर भी सुबह तुझसे ही रूबरू
होने का इंतजार होता हैं.


बेचैन रहती हैं आँखें मेरी, एक तू ही अच्छा लगता हैं,
झूठी लगती है दुनिया सारी, एक तू ही सच्चा लगता हैं.


तुम दूर जाओ तो बेचैनी मुझे ही होती हैं,
महसूस करके देखो मोहब्बत ऐसी ही होती हैं.


होठों पर मुस्कान तो दिखाने भर का हैं,
बेचैन दिल तो जमाने भर का हैं.


कभी-कभी किसी से ऐसा रिश्ता बन जाता हैं,
कि हर चीज से पहले उसी का ख्याल आता हैं.


बेचैन इस कदर था कि सोया ना रात भर,
पलकों से लिख रहा था तेरा नाम चाँद पर.


याददाश्त का कमज़ोर होना बुरी बात नहीं हैं जनाब,
बड़े बेचैन रहते है वो लोग जिन्हें हर बात याद रहती हैं.


यहाँ हम बेचैन वहाँ तुम बेचैन,
जब मिले हम तुम तब ही मिले चैन.


कोई कुछ भी ना कहे तो पता क्या हैं,
इस बेचैन ख़ामोशी की वजह क्या हैं,
उन्हें जा के कोई कहे हम ले लेंगे ज़हर भी
वो सिर्फ़ ये तो बता दे मेरी खता क्या हैं.


मेरे बेचैन दिल को करार मिल जाए,
तेरा चेहरा जब भी नज़र आये.